उस दिन उस समय कौन नहीं परेशान था हर तरफ अफरा-तफरी मची मची थी। पैसों के लिए लोग इतनी परेशान हो गए थे। कि बड़े-बड़े लाइन लगाने पड़ते थे। किसी भी जगह पर चाहे। वह बैंक हो या रेल पर टिकट लेना हो हर तरफ अफरा-तफरी ही देखने को मिल रही थी। 

आज हम आपको बताने वाले हैं कि नोटबंदी कब हुआ था। और नोटबंदी क्यों हुआ था। सभी लोग यह जानना चाहते ही होंगे। तो मैं आज आपको इसके बारे में जानकारी देने जा रहा हूं। आप कोशिश करें कि इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। तब आप समझ जाएंगे कि हमारे देश में नोटबंदी क्यों और किस लिए किया गया था। इसलिए हम आपको बताते हैं उसके बारे में। 

नेटबंदी क्यों हुआ था -

नोटबंदी भारत सरकार की एक ऐसी व्यवस्था थी जो लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया। नोटबंदी हमारे देश में इसलिए किया गया था। क्योंकि बहुत सारे काले जाना लोग घरों में जमा किए थे और बैंकों में छुपा कर रखे हुए थे। बहुत सारे लोग अपने पैसों को विदेशों में भी छुपा कर रखे हुए थे। इसीलिए भारत सरकार ने नोटबंदी करने का ऐलान किया। जो कि आम आदमी के लिए काफी मुश्किल का समय था। 

जैसा की आप सभी को पता है कि बहुत सारे बड़े बड़े व्यापारी लोग अपने पैसों को छुपाते हुए। अपने इनकम टैक्स यानी टैक्स बहुत कम दिया करते थे। भारत सरकार को जिससे भारत सरकार पर ओवरलोडिंग ज्यादा हो रहा था। इसी को देखते हुए .

भारत सरकार के प्रधानमंत्री ने अपने देश में नोटबंदी का एक बहुत ही बड़ा ऐलान कर दिया। जो लगभग कई दिनों तक लोगों की परेशानी बन गया। लेकिन इसका फायदा कुछ समय बाद हमें देखने को मिला। लोग अपने छुपाए हुए पैसों को नदी तालाब या फिर गंगा, यमुना किसी भी बड़ी नदी में बहते हुए नजर आ रहे थे। 

उनका पैसा ऐसे खराब हो गया। जैसे एक नाले में कोई चीज गिर जाती हो। जो आगे काम नहीं आती है। इसीलिए भारत सरकार ने भारत में नोटबंदी का बहुत ही बड़ा ऐलान किया था। 

नोटबंदी कब हुआ था - 

नोटबंदी हमारे भारत में 8 नवंबर 2016 से लेकर 30 दिसंबर 2016 तक किया गया था। जिससे लोगों को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ा था। जब हमारे देश में नोटबंदी किया गया। तब बहुत सारे लोग अपने पैसों को छुपा कर रखे हुए थे। जब नोटबंदी किया गया तो लोग अपने उस पैसे को नदी तालाब या बड़े-बड़े जगहों पर देखते हुए नजर आ रहे थे। बहुत सारे लोग तो रोड पर ऐसे पैसे फेंक रहे थे। जैसे वह एक कागज का टुकड़ा हो। 


NoteBandi kab hua tha, Createsopen
नोटबंदी कब हुआ था

नोटबंदी से क्या फायदा मिला -

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी ने 8 नवंबर को जब नोटबंदी किया। तब उस समय रात के लगभग 12:00 बज रहे थे। और लोगों को इसके बारे में उस समय जानकारी मिली। जब वे लोग अपने मोबाइल पर किसी न्यूज़ को देखते हुए समझ पा रहे थे। कुछ लोगों को यह समझ नहीं आ रहा था कि यह क्या हुआ है। हर तरफ लोग परेशान थे। कहीं लोग बैंकों में अपने पुराने नोट को जमा कर रहे थे। तो कहीं लोग अपने उस नोट को गरीबों में बांट रहे थे। 

उस समय उसका मूल्य सिर्फ शून्य के बराबर था। नोटबंदी करने से हमारे सरकार के द्वारा हमें यह फायदा हुआ। कि जब लोग नोटबंदी की जानकारी समझते हैं तो लोगों को अपने पैसे बैंक में जमा करना होता था जिससे भारत सरकार को यह जानकारी प्राप्त होने लगती कि इस व्यक्ति के पास कितना पैसा है और किस व्यक्ति के पास पैसा नहीं है और जब भारत सरकार ने नोट बंद किया तब लोगों को इनकम टैक्स देना पढ़ रहा था .

लेकिन लोगों को कम इनकम टैक्स देने से भारत सरकार अपने इस काम को अंजाम दिया और आगे जाकर यही नोटबंदी होली रंग लाई जिससे लोगों को नोटबंदी करने से थोड़ा मुश्किल का सामना तो करना पड़ा। लेकिन जब नोट बंदी से हर किसी के इनकम की जानकारी सामने आने लगी.

भारत सरकार के द्वारा कालेधन को बाहर निकालने का यह एक ऐसा जरिया था जो लोगों को समझ से परे था इसीलिए भारत सरकार ने नोटबंदी का ऐलान किया। लेकिन जब नोट बंदी से हर किसी के इनकम की जानकारी सामने आने लगी। और भारत सरकार के द्वारा कालेधन को बाहर निकालने का यह एक ऐसा जरिया था। जो लोगों को समझ से परे था। इसीलिए भारत सरकार ने नोटबंदी का ऐलान किया। 

नोटबंदी से क्या नुकसान हुआ है -

नोटबंदी के कुछ दिन बाद लोगों को राहत मिली लेकिन नोटबंदी के 1 से 2 महीने के लिए लोगों को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। जिसमें लोग अपने किसी काम को पूरा करने के लिए किसी से मदद भी नहीं ले पा रहे थे। क्योंकि हर किसी का पैसा बैंक में आता था। बैंक से पैसे निकालने के लिए बहुत सारी लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिलती थी। और रेल में सफर करने के लिए जब रेलवे स्टेशन पर टिकट लेने जाते थे। तब हमें वहां पर भी लंबी-लंबी लाइनों का जमावड़ा देखने को मिलता था। बस इससे ज्यादा हम आपको क्या बताएं आप समझ गए होंगे। कि हमें नोटबंदी से कितने सारे नुकसान उठाने पड़े थे।